Ganga and Mahadev by Rahi Masoom Raza

Translation: Bhaswati Ghosh

My name sounds like a Muslim’s
Slaughter me and set my home ablaze
Plunder the room where my statements stay awake
Where I whisper to Tulsi’s Ramayana
And say to Kalidasa’s Meghdoot
That I, too, have a message.
My name is like that of Muslims
Kill me and torch my house
But remember that the water of Ganga courses through my veins
Throw a splash of my blood on Mahadev’s face
And say to that yogi — Mahadev
Withdraw this Ganga now
It has sunk into the bodies of the degraded Turks
Where it runs as blood.

गंगा और महादेव
राही मासूम रज़ा

मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझको कत्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो
मेरे उस कमरे को लूटो जिसमें मेरी बयाने जाग रही हैं
और मैं जिसमें तुलसी की रामायण से सरगोशी करके
कालीदास के मेघदूत से यह कहता हूँ
मेरा भी एक संदेश है।
मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझको कत्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो
लेकिन मेरी रग-रग में गंगा का पानी दौड़ रहा है
मेरे लहू से चुल्लू भर महादेव के मुँह पर फेंको
और उस योगी से कह दो- महादेव
अब इस गंगा को वापस ले लो
यह ज़लील तुर्कों के बदन में गढ़ा गया
लहू बनकर दौड़ रही है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s